Author Topic: ਕੰਮ ਵੱਲ ਰੁਝਾਨ, ਪੜ੍ਹਾਈ ਦਾ ਨੁਕਸਾਨ  (Read 6296 times)

December 09, 2019, 04:27:06 AM
Read 6296 times

010404002

  • *****
  • Information Offline
  • Newbie
  • School Counselor
  • Posts: 1
    • View Profile
ਮੇਰੇ ਸਕੂਲ ਵਿੱਚ ਕੁਝ ਵਿਦਿਆਰਥੀ ਸਕੂਲ ਤੋ ਬਾਹਰ ਦੁਕਾਨਾਂ ਉਪਰ ਕੰਮ ਕਰਦੇ ਹਨ ਅਤੇ ਇਹ ਕਰਨ ਲਈ ਉਹਨਾਂ ਨੂੰ ਘਰ ਦੇ ਹਾਲਾਤ ਮਜਬੂਰ ਕਰਦੇ ਹਨ। ਜਿਸ ਕਾਰਨ ਉਹ ਜਿਆਦਾ ਤਰ ਸਕੂਲ ਵਿਚੋਂ ਗੈਰ ਹਾਜਰ ਰਹਿੰਦੇ ਹਨ। ਮਾਪਿਆ ਨਾਲ ਗੱਲਬਾਤ ਕਰਨ ਤੇ ਵੀ ਮੈਨੂੰ ਕੋਈ ਖਾਸ ਹੱਲ ਨਜ਼ਰ ਨਹੀਂ ਆ ਰਿਹਾ। ਇਸ ਸਮੱਸਿਆਂ ਉਪਰ ਮੈਂਨੂੰ ਸੁਝਾਅ ਦਿੱਤੇ ਜਾਣ। ਧੰਨਵਾਦ

मेरे स्कूल में कुछ विद्यार्थी स्कूल से बाहर दुकानों पर काम करते हैं और ये करने पर उन्हें उनके घर के हालात मजबूर करते हैं। इस कारण वे ज्यादातर स्कूल से गैर हाजिर रहते हैं। उनके घर वालों से बात करके भी मुझे कोई समाधान नजर नहीं आ रहा। इस समस्या पर मुझे सुझाव दिए जाएं। धन्यवाद
« Last Edit: December 11, 2019, 02:55:54 AM by Rajan »

December 15, 2019, 09:08:40 AM
Reply #1

Ranjit Powar

  • Dr.
  • *****
  • Information Offline
  • Full Member
  • State Counselor
  • Posts: 158
  • Psychological Counsellor and Trainer
    • View Profile
This problem has many socio economic reasons attached to it. I don't think anything besides counselling the parents can be done. Ask the students if they can spend an extra hour in school to study before going home.

इस समस्या के कई सामाजिक आर्थिक कारण हैं। मुझे नहीं लगता कि माता-पिता की सलाह के अलावा कुछ भी किया जा सकता है। छात्रों से पूछें कि क्या वे घर जाने से पहले स्कूल में एक अतिरिक्त घंटा पढाई कर सकते हैं।
« Last Edit: December 18, 2019, 03:28:16 AM by Rajan »
Ranjit Powar

December 16, 2019, 09:06:25 AM
Reply #2

03060100102

  • *****
  • Information Offline
  • Newbie
  • School Counselor
  • Posts: 7
    • View Profile
Asentism is a major problem we have facing now a days both secondary classes  that is +1, +2

असेंटिज्म एक बड़ी समस्या है जिसका हमें  आजकल सामना करना पड़ रहा है। दोनों  कक्षाओं में +1, +2 में
« Last Edit: December 18, 2019, 03:30:09 AM by Rajan »

 

Alerts

Admissions Jobs Alerts Scholarships Career Career Chart

Students

Colleges Achievers Divyang Problem Contact Us

Mashaal Project © 2018-2024